उत्तराखंड :- देहरादून में डेंगू मरीजों की संख्या पहुंची 15, एक ही परिवार के दो लोग की मौत के बाद जागा विभाग

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

देहरादून जिले में डेंगू का एक और मरीज सामने आया है। इस तरह से जिले में मौजूदा सीजन में संक्रमित मरीजों की संख्या 15 पहुंच गई है। बुधवार को मिला डेंगू मरीज डोईवाला क्षेत्र का है।वह हाल ही में उत्तर प्रदेश से आया है और अपने घर पर रह रहा है। वह स्वस्थ बताया गया है। जिला वेक्टर जनित रोग अधिकारी सुभाष जोशी ने बताया कि अभी तक जिले में 774689 आबादी के अंतर्गत 157775 घरों का सर्वे किया जा चुका है। जिसमें से 8595 घरों में मच्छर का लार्वा पाया गया। जिसे टीमों नष्ट किया गया।

वहीं, बुधवार को नगर निगम देहरादून और स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीमों द्वारा डेंगू से सबसे अधिक प्रभावित इंदिरानगर व आसपास के क्षेत्रों में सघन छिड़काव व फागिंग कराई गई। मच्छर के लार्वा को ढूंढने और जन सामान्य को जागरूक करने के लिए वाहन द्वारा प्रचार-प्रसार किया गया। इससे संबंधित पंपलेट भी वितरित किए गए। कुछ जगहों पर मच्छर के लार्वा पाए गए। जिसे टीम द्वारा नष्ट किया गया। इस दौरान मेयर सुनील उनियाल गामा, संबंधित क्षेत्र के अधिकारी, कार्यकर्ता आदि भी मौजूद थे।

मलेरिया से दो मौतों के बाद जागा विभाग, पूरी बस्ती की होगी जांच
रुड़की के कलियर नगर पंचायत के जंवाईखेड़ा में मलेरिया से मां-बेटे की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग की नींद टूटी है। सीएमओ के निर्देश पर जिला मलेरिया अधिकारी के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बस्ती पहुंचकर पीड़ित परिजनों और आसपास के लोगों का हाल जाना। इसके बाद टीम रुड़की स्थित तुलसी अस्पताल में मरीजों की जानकारी लेने पहुंची। दोपहर बाद बस्ती में सफाई और दवा छिड़काव शुरू करा दिया गया। इस दौरान लोगों ने स्वास्थ्य विभाग के प्रति गुस्सा जाहिर किया।

कलियर के जंवाईखेड़ा निवासी तबस्सुम (40) पत्नी रियासत और बेटे आहत (12) की मलेरिया से मौत हो चुकी है। परिवार के ही भाई-बहन भी मलेरिया से पीड़ित होने पर अस्पताल में भर्ती हैं। एक ही परिवार में दो मौतें होने से कलियर क्षेत्र के लोगों में भय का माहौल है। अमर उजाला ने बुधवार को मौत की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। अगले दिन स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। बुधवार को सीएमओ डॉ. एसके झा ने स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ ही जिला मलेरिया अधिकारी को क्षेत्र में जाकर स्थिति का जायजा लेने के निर्देश दिए। सीएमओ के निर्देश पर सुबह जंवाईखेड़ा में स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची।

मलेरिया अधिकारी डॉ. गुरनाम सिंह ने पीड़ित परिवार से वार्ता की। साथ ही आसपास के लोगों के स्वास्थ्य के बारे में भी जाना। साथ ही तुरंत नगर पंचायत अधिकारियों को फॉगिंग और कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करने के निर्देश दिए। दोपहर बाद छिड़काव शुरू करा दिया गया। इसके बाद टीम रुड़की के तुलसी अस्पताल पहुंची। यहां मलेरिया से पीड़ित मंतसा का इलाज चल रहा है। टीम ने डॉ. नवीन बंसल से मरीजों का हाल जाना। टीम में फार्मेसिस्ट जमशेद अली, परामर्शदाता विशा आदि मौजूद रहे। नगर पंचायत के ईओ रमेश सिंह रावत का कहना है फॉगिंग व कीटनाशक का छिड़काव कराया जा रहा है। नाले-नालियों की सफाई कराने को लेकर सफाई सुपरवाइजर को निर्देशित किया गया है।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments