उत्तराखंड :- माँ-बेटी का कारनामा , स्कूटी में घर -घर जाकर करने लगी धंधा ,ऐसे आयी पुलिस के हाथ ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

प्रदेश में नशे का कारोबार तेजी से अपने पैर पसार रहा है। तस्करों ने अपना नेटवर्क मैदान से पहाड़़ तक फैला रखा है।जिसके चलते युवा लगाताकर नशे की गिरफ्त में आ रहे है।तस्करी में केवल पुरूष ही नहीं अब महिला भी शामिल है। ऐसे कई मामले अब तक सामने आ चुके है। इससे पहले भी महिलाएं स्मैक का धंधा करती हुई पकड़ी गई। ताज़ा मामला धर्मनगरी हरिद्वार में देखने को मिला जहां मां-बेटी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है जो स्कूटी पर घूम-घूमकर स्मैक बेच बेचती थी। पुलिस ने उनके कब्जे से 50 ग्राम स्मैक और 20 हजार की नकदी भी बरामद हुई है। दोनों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर कोर्ट में पेश किया। जहां से उन्हें जेल भेजने केसाथ ही स्कूटी भी सीज कर दी गई है।

यह भी पढ़ें -   293 एलटी शिक्षकों को मिलेगी पदोन्नति, 29 जून से नैनीताल में होगी काउंसलिंग प्रक्रिया

जानकारी देतेे हुए सीओ सिटी अभय प्रताप सिंह ने बताया कि नशीले पदार्थों की तस्करी व बिक्री करने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। ऐसे में पुलिस को जगजीतपुर क्षेत्र एक मां-बेटी के स्मैक बेचने की शिकायत मिल रही थी। सूचना पर एसएसआइ राजेंद्र रावत व जगजीतपुर चौकी प्रभारी सत्येंद्र नेगी उसके बारे में सुराग जुटाने में लगे हुए थे। शुक्रवार को चेकिंग के दौरान पुलिस ने एक्टिवा पर जा रही मां व बेटी को माया विहार तिराहे पर रोका। पुलिस ने कोरोना कफ्र्यू में घूमने का कारण पूछा तो वह कोर्ई जवाब नहीं दे पाये।

यह भी पढ़ें -   293 एलटी शिक्षकों को मिलेगी पदोन्नति, 29 जून से नैनीताल में होगी काउंसलिंग प्रक्रिया

सख्ती से पूछताछ करने पर दोनों मां-बेटी ने बताया कि स्मैक बेचने के लिए घर से निकली थी। पूछताछ में दोनों ने अपना नाम पूजा व रानी ग्राम बैलई थाना उमरी बेगम जिला गौंडा हाल निवासी विक्रम का मकान बसंत विहार फेस-1 जगजीतपुर बताया। पुलिस ने दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया है ।

यह भी पढ़ें -   293 एलटी शिक्षकों को मिलेगी पदोन्नति, 29 जून से नैनीताल में होगी काउंसलिंग प्रक्रिया
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments