उत्तराखंड :- प्रदेश के सभी उच्च शिक्षण संस्थानों में ग्रीष्मावकाश घोषित,आदेश जारी

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

उत्तराखंड में लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए सरकार ने प्रदेश के सभी राजकीय विश्वविद्यालय महाविद्यालय शासकीय महाविद्यालय और निजी विश्वविद्यालय सहित मान्यता प्राप्त संस्थानों में 7 मई से 12 जून तक ग्रीष्मकालीन अवकाश घोषित कर दिया है इस अवधि में राज्य के सभी उच्च शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे,

उच्च शिक्षा निदेशक ने शासन को पत्र लिखकर कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए मैदानी और पर्वतीय सभी सरकारी 105 डिग्री कालेजों में ग्रीष्मावकाश घोषित करने का अनुरोध किया था। उच्च शिक्षा उपसचिव शिव स्वरूप त्रिपाठी ने इस संबंध में आदेश जारी किया है। ग्रीष्मावकाश में मैदानी व पर्वतीय क्षेत्रों के डिग्री कालेजों के पहले और भविष्य में देय अवकाशों का समायोजन किया जाएगा।जिन पर्वतीय क्षेत्रों के कालेजों में शीतावकाश की व्यवस्था है, वहां भी ग्रीष्मावकाश लागू होगा। इस अवकाश की अवधि का समायोजन भविष्य में देय अवकाशों से करने की व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: उच्च न्यायालय ने अंकिता हत्याकांड मामले में पुलकित आर्य के नार्को और पॉलीग्राफ टेस्ट पर लगाई रोक

विभागीय मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि, छात्रों, शिक्षकों एवं कार्मिकों की सुरक्षा सरकार के लिए सर्वोपरि है, उसके लिए जो भी आवश्यक कदम होगा सरकार उठाएगी. शिक्षा के साथ लोगों का जीवन भी अत्यन्त महत्वपूर्ण है. मंत्री ने यह भी कहा कि, अधिकांश महाविद्यालयों में पाठ्यक्रम पूरा किया जा चुका है, तथा ग्रीष्मावकाश से छात्रों के पठन-पाठन में कोई नुकसान नहीं होगा. विभागीय मंत्री डॉ. रावत ने राज्य के समस्त शासकीय और निजी विश्वविद्यालयों को भी उक्त के अनुसारअपने विश्वविद्यालय तथा सम्बद्ध महाविद्यालयों में ग्रीष्मावकाश के आदेश का पालन करने हेतु कहा है

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: नारायण नगर में कूड़ा रिसाइक्लिंग प्लांट के निर्माण पर स्थानीय लोगों से प्रशासन की वार्ता विफल।
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments