नैनीताल: कुमाऊं के ट्रैकिंग रुटों को संवारने के लिए केएमवीएन की कवायद शुरू…धर्म, संस्कृति और अध्यात्मिकता के दृष्टिकोण से पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा…

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल। पर्यटन को बढ़ाने के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम (कुमंविनि)की ओर से कवायद तेज हो गई है। इसके लिए कुमाऊं के ऐतिहासिक मार्गों को ट्रैकिंग के लिए सुधारा जा रहा है। धारचूला के दारमा, चौदास, व्यास वैली में नये ट्रैकिंग रुट विकसित करने के लिए योजना तैयार की जा रही है।

यह भी पढ़ें -   राज्य की रजत जयंती तक सर्वश्रेष्ठ राज्यों की सूची में शामिल होगा उत्तराखंड: सीएम धामी

निगम के प्रबंधक निदेशक विनीत तोमर ने बताया कि पिथौरागढ़ और धारचूला क्षेत्र में कई ऐतिहासिक ट्रेक हैं, जिनमें देश-विदेश के ट्रेकर्स आते हैं, लेकिन कोरोना काल और आपदा के कारण क्षतिग्रस्त हुई सड़कों के कारण यहां लंबे समय से ट्रेकिंग बंद कर दी गई थी। अब एक बार फिर से कुमाऊं मंडल विकास निगम द्वारा इन मार्गों पर ट्रेकर्स की संख्या बढ़ाने के लिए यहां कुमंविनि के कैंपों की हालत सुधारी जा रही है। साथ ही नये कैंप भी बनाये जाने के लिए योजना तैयार की जा रही है। इसके लिए निगम की ओर से सर्वे पूरा कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें -   अंकिता हत्याकांड में किसी वजनदार वीआईपी को बचाने की कोशिश में जुटी है धामी सरकार: हरीश रावत


निगम द्वारा बनाई जा रही ट्रैकिंग कार्य योजना के तहत देश विदेश के ट्रेकर्स को आकर्षित करने के लिए इन जगहों से जुड़ी पौराणिक और ऐतिहासिकता का संकलन किया जा रहा है, जिससे धर्म, संस्कृति और अध्यात्मिकता के दृष्टिकोण से भी इसे जोड़ा जा रहा है।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments