नैनीताल: भूस्खलन के कारण खतरे की जद में आया 123 साल पुराना शहीद मेजर राजेश अधिकारी राजकीय इंटर कॉलेज, डीएम ने शिफ्ट करने के दिए निर्देश।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल। बलियानाला क्षेत्र में हो रहे भूस्खलन का खतरा शहीद मेजर राजेश अधिकारी राजकीय इंटर कॉलेज पर भी मंडरा रहा है। जिसे देखते हुए जिलाधिकारी ने शहीद मेजर राजेश अधिकारी राजकीय इंटर कॉलेज (जीआईसी) के 131 छात्रों को वैकल्पिक व्यस्था के तहत विस्थापित करने के निर्देश दिये हैं।

जिलाधिकारी ने कहा है कि कक्षा 6,7,8 के छात्रों को अटल आदर्श उत्कृष्ट राजकीय बालिका इंटर कॉलेज (जीजीआईसी) में शिफ्ट किया जाएगा, जबकि कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों की पढ़ाई के लिए जीजीआईसी स्कूल के मध्य अस्थाई टीन शेड बनाए जायेंगे।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल के कृष्णापुर निवासी लापता युवक का शव खाई में मिला...

वहीं जिलाधिकारी ने शहीद मेजर राजेश अधिकारी इंटर कॉलेज के बंद पड़े क्रेज लैंड हॉस्टल में जिला खाद्य आपूर्ति कार्यालय को विस्थापित करने के निर्देश दिए हैं। मालूम हो कि नैनीताल में 1899 में शहीद मेजर राजेश अधिकारी राजकीय इंटर कॉलेज की स्थापना हुई थी।

बलियानाला क्षेत्र में भूस्खलन के स्थाई उपचार और प्रभावित क्षेत्र में रह रहे लोगों समेत जीआईसी स्कूल के छात्रों को भी विस्थापित किया जा रहा है। इसे लेकर जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने शनिवार को अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। जानकारी देते हुए जिला अधिकारी ने बताया कि बलियानाला के ट्रीटमेंट के लिये शहीद मेजर राजेश अधिकारी इंटर कॉलेज के 131 छात्रों को वैकल्पिक व्यस्था के तहत विस्थापित करने के निर्देश दिये हैं।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में काम को टालने वाले और “नो” कहने वाले अफसरों को ले लेना चाहिए रिटायरमेंट

बैठक में मौजूद जीजीआईसी की प्रधानाचार्य ने बताया कि स्कूल के शौचालय में सीवर लाइन समेत भौतिक विज्ञान प्रयोगशाला की बेहतर सुविधा उपलब्ध नहीं है। जिस पर संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी ने जल संस्थान के अधिशासी अभियंता को सीवर लाइन दुरुस्त करने और प्रयोगशाला को जिला योजना मद से दुरुस्त कराने के निर्देश दिए।

वहीं जिलाधिकारी ने शहीद मेजर राजेश अधिकारी इंटर कॉलेज के बंद पड़े क्रेज लैंड हॉस्टल का निरीक्षण कर वहां जिला खाद्य आपूर्ति कार्यालय को शिफ्ट करने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें -   चाफी में अंग्रेजों द्वारा बनाया ये 'झूला पुल' सवा सौ साल है पुराना... बेहतरीन गुणवत्ता के कारण आज भी जस का तस।

इस दौरान अपर जिला अधिकारी अशोक कुमार जोशी, अपर जिलाधिकारी शिवचरण दिवेदी, आपदा प्रबंधन अधिकारी शैलेश कुमार, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका अशोक कुमार वर्मा, प्रधानाचार्य राजेंद्र सिंह अधिकारी, प्रधानाचार्य विमला बिष्ट, रेखा नेगी, मनोज कुमार पांडे, मान सिंह, गोपाल स्वरूप आदि मौजूद रहे।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments