कोविड काल में उत्तराखंड परिवहन को उठाना पड़ रहा भारी नुकसान ,नही मिल रहे यात्री ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

पिछले साल कोरोना काल के बाद से उत्तराखंड परिवहन निगम लगातार घाटे में चल रहा है। ऐसे में कोरोना की दूसरी लहर ने उत्तराखंड परिवहन निगम की कमर तोड़कर रख दी है। उत्तराखंड सहित कई प्रदेशों में फिर से कर्फ्यू और लॉकडाउन के चलते उत्तराखंड परिवहन निगम को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। कुमाऊं मंडल के अलग-अलग डिपो से पहले रोजाना 300 रोडवेज की बसों की संचालन होता था जो अब घटकर 150 के करीब पहुंच गया है।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी जिला प्रशासन ने शनिवार को बाजार पूर्ण बंद करने का लिया फैसला, आवश्यकीय दुकानें 11 बजे तक रहेगी खुली

कुमाऊँ के सबसे बड़े हल्द्वानी रोडवेज डिपो की बात करें तो यहां से रोजाना पहले 68 बसों का संचालन हुआ करता था जो घटकर वर्तमान समय में आधा रह गया है यहां तक कि दिल्ली रूट पर रोजाना 14 बसों का संचालन हुआ करता था जो वर्तमान समय में 7 से 8 बसों का ही संचालन हो पा रहा है। यहां तक कि इन बसों के लिए भी सवारिया नहीं मिल पा रही हैं और मजबूरन चालक बिना यात्री के ही सड़कों पर बसें दौड़ाने को मजबूर है, हल्द्वानी डिपो की आमदानी रोजाना जहां पहले करीब 15 लाख रुपए के आसपास हुआ करती थी जो घटकर अब करीब 5 लाख हो गयी है।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड :- कोरोना की बढ़ती रफ्तार,प्रदेश भर में कोरोना के 4402 नए मामले

हल्द्वानी रोडवेज स्टेशन के स्टेशन प्रभारी इंदिरा भट्ट ने बताया कि बसों के संचालन का असर दिल्ली सहित उत्तर प्रदेश के अलावा पहाड़ के रूटों पर भी पड़ा है इन दिनों पर्यटन सीजन होने के चलते भारी संख्या में यात्री उत्तराखंड आते थे लेकिन कर्फ्यू के चलते यात्री नहीं आ रहे हैं ऐसे में बसों का संचालन पहाड़ के रूटों पर भी कम कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें -   ऊधम सिंह नगर :- डंपर की टक्कर से पिकअप सवार दो लोगों की दर्दनाक मौत, 2 घायल
लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

हमारे इस नंबर 9368692224 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

👉 Hills Mirror के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 Hills Mirror के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 Hills Mirror से Telegram पर जुड़ें

👉 हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments