नैनीताल का ऐतिहासिक बैंड स्टैंड झील में समाने का डर, आवाजाही रोकी गयी…

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल। मल्लीताल बैंड हाउस के पास मार्ग में गहरी दरार पड़ने को लेकर सोमवार को सिंचाई विभाग और नगर पालिका की टीम ने संयुक्त रूप से निरीक्षण किया। सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता केएस चौहान व नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी अशोक वर्मा ने सयुंक्त रूप से निरीक्षण के दौरान बैंड हाउस के पास वाले मार्ग पर पड़ रही दरार की स्थिति को जांचा।

बैंड हॉउस के समीप जो मार्ग धंस रहा है। वहां पर पर्यटकों की आवाजही रहती है। कोई जनहानि न हो, इसके लिए नगरपालिका की सहायता से धंसे हुए मार्ग को बंद कराया जा रहा है। वहीं मार्ग के पुनः निर्माण के लिए प्रस्ताव बना कर विभाग को भेजा जाएगा। सिंचाई विभाग के अधिशासी अधिकारी केएस चौहान ने बताया कि झील का जल स्तर घटने और बढ़ने से झील से सटे इस मार्ग पर काफी दबाव बना रहता है। जिससे यह धीरे धीरे नीचे धंस रहा है। मार्ग की इस दीवार का कुछ हिस्सा काफी संवेदनशील बना हुआ है जो तेज बारिश होने पर झील में समा सकता है।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल में भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता के अवैध निर्माण को प्राधिकरण ने किया सील


बताया कि नालों से झील में कूड़ा आने की वजह से जगह-जगह निर्माण कार्य चल रहा है। जिनका मलवा बारिश के दौरान नालों में बहाया जा रहा है। इस सम्बन्ध में झील विकास प्राधिकरण को भी सूचना दी गयी है, लेकिन बारिश में नालों से बहता हुआ मलवा व कूड़ा रुकने का नाम नहीं ले रहा है।

यह भी पढ़ें -   चोपड़ा के वचनढूंगा में वायरक्रेट से प्लेटफार्म बनाने का कार्य अटका, पैसे तो मिल गए लेकिन नहीं मिल रहे ठेकेदार...

इस दौरान सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता डीडी सती, अपर सहायक नीरज तिवारी, पालिका सभासद भगवत रावत, कर निरीक्षक सुनील खोलिया, सूरज चौहान, चिलवाल मौजूद रहें।

नालों की सफाई के लिए नहीं मिल रहा बजट


नालों में सफाई करने का कार्य सिंचाई विभाग की जिम्मेदारी है, लेकिन पिछले कई वर्षों से झील की सफाई के लिए बजट नहीं मिल पाया है। इसके अलावा विभाग के पास नालों की सफाई के लिए पर्याप्त कर्मचारी भी नहीं है। शहर में 40 से ऊपर के नालों की साफ सफाई करने के लिए रोजाना बीस से अधिक मजदूरों की आवश्यक पड़ती है। कहा की पिछले वर्ष 2020-21 में विभाग द्वारा डेढ़ करोड़ रूपये नैनी झील व नालों के रख रखाव के लिए मिला था। 2021 -22 में इस मद को खत्म कर दिया गया। सिंचाई विभाग के ऊपर 1 करोड़ रुपये से अधिक की देनदारी बाकी है।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल में भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता के अवैध निर्माण को प्राधिकरण ने किया सील

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments