उत्तराखंड :- मूसलाधार बारिश से मची तबाही , कई जगह जान-माल का भारी नुक्सान रहे अलर्ट

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

पहाड़ों से लेकर मैदानी क्षेत्रों तक हो रही मूसलाधार बारिश के चलते जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो चला है अब तक कई जगहों से लैंडस्लाइड और नदी के जलस्तर बढ़ने से कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं मगलवार की तड़के भिकियासैंण के रापड गांव में मूसलधार बारिश से तड़के 2 बजे आनंद सिंह नेगी पुत्र मदन सिंह नेगी उम्र 60 वर्ष के मकान में मलवा गिर गया। वह कुछ समझ पाते तब तक पहाड़ी का मलवा से मकान क्षतिग्रस्त हो गया। आनंद सिंह नेगी की पत्नी उषा उम्र 55 वर्ष ने भागकर जान बचाई। जबकि आनंद सिंह नेगी व उनके बड़े भाई गोवर्धन सिंह की लड़की के दो बच्चे तन्नू पुत्र मदन सिंह 12 वर्ष व किरन पुत्री मदन सिंह उम्र 16 वर्ष के दो किशोर मलवे में दब गए।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल के कृष्णापुर निवासी लापता युवक का शव खाई में मिला...

नैनीताल के अतिसंवेदनशील इलाकों के लोगों ने दहशत के बीच रात काटी। नैनी झील के निकासी द्वार खोलने से निकले पानी ने नाले के आसपास के मकान में रहने वालों में खलबली मची रही। यहां हल्द्वानी, कालाढूंगी रोड तथा भवाली रोड बंद होने से सम्पर्क कटा है। मंगलवार सुबह अखबार व दूध की सप्लाई भी बंद रही। बारिश से जिले की एक दर्जन से अधिक सड़कों पर यातायात ठप है। झील के जलस्तर में लगातार बढ़ोतरी से पानी नयना देवी मंदिर के साथ ही गुरुद्वारा, बोट हाउस क्लब के ग्राउंड फ्लोर तक पहुंच गया है। लोअर माल रोड तक झील का पानी पहुंच गया है।

चम्पावत में बारिश से कई जगह भूस्खलन होने से मकानों को खतरा पैदा हो गया है। शारदा, लोहावती, गंडक, लधिया समेत अन्य नदी नाले उफान पर है। एनएच समेत कई ग्रामीण सड़कों पर मलवा आने से बन्द हो गई। सोमवार को सेलखोला में मां बेटे की मलवे में दबने से मौत हुई थी। पिथौरागढ़ में बारिश जारी। एनएच सहित 15 से अधिक मार्ग बंद। नदियों का जलस्तर बढ़ता जा रहा है। जौलजीबी में काली और गोरी नदियों का जल स्तर बढ़ने से मेलास्थल में पानी भर गया है। नाचनी में रामगंगा नदी को जलस्तर बस्ती के मकानों के करीब पहुंच चुका है। एनएच में घाट से पिथौरागढ़ के मध्य दो स्थानों पर मार्ग बंद है। अल्मोड़ा में गगास, कोसी, रामगंगा नदी उफान पर है। कई गाड़ियां मलबे में दब गई है। अल्मोड़ा हल्द्वानी हाईवे पर खीनापानी क्षेत्र में मलबे में दबने से दो श्रमिकों की मौत की सूचना आ रही है। रेक्सयू टीम को मूसलाधार बारिश व लगातार मलबा गिरने से शव निकालने में दिक्कत हो रही है। इसके अलावा सोमवार देर शाम को बाजपुर में घड़ी नदी के तेज बहाव में एक किसान बह गया…………. वही रामगढ़ ब्लॉक के झुतिया रामगढ़ में बारिश ने कहर मचाया है , नौ लोगों की मृत्यु और तकरीबन एक दर्जन मकान नदी में समाए.की सुचना सामने आयी है .ग्राम प्रधान ने बताया कि नदी का इतना विकराल स्वरूप है कि राहत एवं बचाव कार्य भी सम्भव नहीं हो पा रहा है। फिलहाल घटना पर आगे अपडेट आने का इन्तजार है

यह भी पढ़ें -   चंपावत: गर्भवती को बिना इलाज के ही डॉक्टरों ने हायर सेंटर कर दिया रेफर, एंबुलेंस में देना पड़ा बच्चे को जन्म…
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments