उत्तराखंड :- ब्लैक फंगस के इलाज को लेकर सरकार ने इन 12 अस्पतालों की लिस्ट की जारी ।देखिए लिस्ट…..

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

प्रदेश में ब्लैक फंगस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है ऐसे में इस बीमारी से लड़ने के लिए राज्य सरकार ने राज्य में संचालित 12 डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल की सूची तैयार की है। मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने इन अस्पतालों के सभी चिकित्सा अधीक्षकों को इलाज के लिए तत्काल व्यवस्था करने के आदेश दिए हैं।

वही ब्लैक फंगस के संक्रमण को लेकर राज्य सरकार पर भी काफी दबाव में है। प्रदेश सरकार कोविड के इलाज के लिए पूरी तरह समर्पित 12 अस्पतालों में ब्लैक फंगस के रोगियों को इलाज देने का आदेश जारी किया गया है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अुनसार देहरादून, ऊधमसिंह नगर और नैनीताल जिले में ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या 118 हो गई है। अभी तक प्रदेश में नौ मरीजों की मौत हुई है।अब तक केवल पांच लोग ही उपचार के बाद घर लौट सके हैं।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: नारायण नगर में कूड़ा रिसाइक्लिंग प्लांट के निर्माण पर स्थानीय लोगों से प्रशासन की वार्ता विफल।

प्रदेश में ब्लैक फंगस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है ऐसे में इस बीमारी से लड़ने के लिए राज्य सरकार ने राज्य में संचालित 12 डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल की सूची तैयार की है। मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने इन अस्पतालों के सभी चिकित्सा अधीक्षकों को इलाज के लिए तत्काल व्यवस्था करने के आदेश दिए हैं।

वही ब्लैक फंगस के संक्रमण को लेकर राज्य सरकार पर भी काफी दबाव में है। प्रदेश सरकार कोविड के इलाज के लिए पूरी तरह समर्पित 12 अस्पतालों में ब्लैक फंगस के रोगियों को इलाज देने का आदेश जारी किया गया है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ अपडेट के अुनसार देहरादून, ऊधमसिंह नगर और नैनीताल जिले में ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या 118 हो गई है। अब तक प्रदेश में नौ मरीजों की मौत हुई है। केवल पांच लोग ही उपचार के बाद घर लौट सके हैं।

यह भी पढ़ें -   बलियानाला भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र के 99 परिवारों का बेलवाखान में होगा विस्थापन...

ब्लैक फंगस का इलाज तीन चरणों में पूरा होता है जिसके लिए पहले शुगर लेवल कंट्रोल और मरीज को एंटीफंगल दवा दी जाती है। पहले चरण में यह मुख्यत: डायबिटिज के मरीजों को हो रहा है। जिसे शुगर लेवल नियंत्रित करना जरूरी है। जिसे मेडिसिन विशेषज्ञ की देख रेख में किया जाता है। दूसरे चरण में एंटीफंगल दवा एमफोरटेरिसिन-बी तीन सप्ताह तक दी जाती है। गुर्दे पर प्रभाव न पड़े इसके लिए समय समय पर अस्पताल जाना जरूरी है। तीसरा चरण अति आवश्यक चरण ऑपरेशन है। मरीज के काले पड़े अंग को सर्जरी से निकाला जाता है। समय पर उपचार नहीं मिलने से मरीज की मृत्यु संभावना बढ़ जाती है।।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: जल जीवन मिशन के तहत कार्य मानकों के अनुरूप नहीं मिले, जिलाधिकारी ने जल संस्थान के अधिशासी अभियंता को लगाई कड़ी फटकार.

ब्लैक फंगस का इलाज तीन चरणों में पूरा होता है जिसके लिए पहले शुगर लेवल कंट्रोल और मरीज को एंटीफंगल दवा दी जाती है। पहले चरण में यह मुख्यत: डायबिटिज के मरीजों को हो रहा है। जिसे शुगर लेवल नियंत्रित करना जरूरी है। जिसे मेडिसिन विशेषज्ञ की देख रेख में किया जाता है। दूसरे चरण में एंटीफंगल दवा एमफोरटेरिसिन-बी तीन सप्ताह तक दी जाती है। गुर्दे पर प्रभाव न पड़े इसके लिए समय समय पर अस्पताल जाना जरूरी है। तीसरा चरण अति आवश्यक चरण ऑपरेशन है। मरीज के काले पड़े अंग को सर्जरी से निकाला जाता है। समय पर उपचार नहीं मिलने से मरीज की मृत्यु संभावना बढ़ जाती है।।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments