मुर्मू बनेंगी देश की सबसे “युवा” राष्ट्रपति। आजाद भारत में जन्म लेने वाली पहली राष्ट्रपति होंगी ओडिसा की द्रौपदी

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

दिल्ली। 25 जुलाई को भारत को अपना 15वां राष्ट्रपति मिलने जा रहा है। यशवंत सिन्हा और द्रौपदी मुर्मू में से कोई एक रायसीना हिल्स पहुंच जाएगा। संख्या बल की बात करें तो मुर्मू के लिए जीत आसान नजर आ रही है। उन्हें 61 फीसदी से अधिक मत मिलने के आसार हैं। शपथ ग्रहण करते ही मुर्मू भारत की सबसे कम उम्र की राष्ट्रपति बन जाएंगी। 20 जून 1958 को उड़ीसा में जन्मी द्रौपदी मुर्मू 25 जुलाई को 64 साल एक महीने और पांच दिन की हो जाएंगी। इससे पहले देश के छठे राष्ट्रपति नीलम संजीवा रेड्डी 64 साल दो महीने और छह दिन की आयु में देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर आसीन हुए थे।


अब तक देश के राष्ट्रपति बने अधिकतर लोग 70 के पड़ाव को पार कर चुके थे। केवल राजेंद्र प्रसाद (65 साल 01 महीने 23 दिन), फकरूद्दीन अली अहमद (69 साल 03 महीने 11 दिन), नीलम संजीवा रेड्डी (64 साल 02 महीने 06 दिन) और ज्ञानी जैल सिंह (66 साल 02 महीने 20 दिन) ही जीवन के 60वें दशक में राष्ट्रपति बने थे।

सिन्हा बनते सबसे उम्रदराज महामहीम
राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के दावेदार यशवंत सिन्हा अगर राष्ट्रपति चुने जाते तो उनके नाम सबसे उम्रदराज “महामहिम” का रिकॉर्ड दर्ज होता। छह नवंबर 1937 को जन्मे सिन्हा अभी 84 साल के हैं।
अब तक सबसे अधिक 77 साल 05 महीने 21 दिन की उम्र में केआर नारायण राष्ट्रपति निर्वाचित हुए थे।

(वरिष्ठ पत्रकार दीपक सिंह नेगी की रिपोर्ट)

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments