देवभूमि के ‘श्लोक’ ने बॉलीवुड सिंगर ‘बादशाह’ व दुनिया का कराया देवभाषा से परिचय…रैप में दिया क से ज्ञ तक का ज्ञान।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्… अगर संस्कृत में कुछ कहने को कहा जाए तो शायद दस में से सात लोग यही मंत्र बोल देंगे। अब अगर मैं कहूं कि देवभूमि में एक ऐसा नौजवान है, जिसने देवभाषा संस्कृत में रैप कर दुनिया को अपना मुरीद बना दिया तो क्या कहेंगे। चौंक गए न।

जी हां यह नौजवान है काशीपुर का रहने वाला शगुन उर्फ श्लोक। बकौल शगुन, वह रैप लिखते और गाते थे लेकिन संस्कृत में रैप बनाने की सलाह उन्हें एक दोस्त ‌ने दी। आइडिया उन्हें पसंद आया और महज तीन घंटे के भीतर उन्होंने संस्कृत में अपना पहला रैप गाना निमंत्रण तैयार कर लिया। सोशल मीडिया पर अपलोड करने पर लोगों को यह पसंद आया तो उन्होंने इस पर आगे काम करना शुरू किया।

यह भी पढ़ें -   68वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में उत्तराखण्ड को मिला मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट का पुरस्कार

हाल ही में टीवी रियेलिटी शो हसल 2 में जब वह पहुंचे तो शो के जज बादशाह उनकी इस प्रतिभा के कायल हो गए। उन्होंने कहा कि बहुत साल पहले जब वह और हनी सिंह दिल्ली की सड़कों पर गाड़ी से निकलते थे तो संस्कृत में रैप का सपना देखते थे। शगुन ने उनका यह सपना पूरा किया है।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल जिले की 160 गांव की चौकियों को सात थानों से जोड़े जाने की कवायद शुरू...

अपनी प्रतिभा के लिए उन्हें कई पुरस्कार और सम्मान मिल चुके हैं। वह कहते है कि कला के माध्यम से वह देवभाषा को अच्छे मुकाम पर लाना चाहते हैं।

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के छात्र रह चुके शगुन उर्फ श्लोक का संस्कृत रैप अलंकार के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में नाम दर्ज हो चुका है। बता दें कि शगुन के पिता का 2012 में निधन हो गया था। ऐसे में उनपर परिवार की जिम्मेदारी आ गई। उन्होंने न सिर्फ अपनी जिम्मेदारियों का बखूबी निभाया बल्कि अपने रैपिंग के सपने को पूरा करने के लिए भी जीतोड़ मेहनत की। इसी का नतीजा है कि आज उन्हें देश-‌दुनिया में नाम मिल रहा है।

यह भी पढ़ें -   मिलिए बागेश्वर के इस "अथातो घुमक्कड़" से! जिसने साईकिल से तय कर डाला 14 देशों का सफर…अभी भी यात्रा जारी…
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments