चाफी में अंग्रेजों द्वारा बनाया ये ‘झूला पुल’ सवा सौ साल है पुराना… बेहतरीन गुणवत्ता के कारण आज भी जस का तस।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल के चाफी क्षेत्र में मौजूद है ब्रिटिशकालीन झूला पुल. लगभग सवा सौ साल पुराना यह पुल आज भी जस का तस खड़ा है. इस पुल की गुणवत्ता काफी बेहतरीन है. वैसे तो इस पुल के निर्माण की सटीक जानकारी नहीं है.

स्थानीय केशव दत्त बेलवाल ने बताया कि इस पुल का निर्माण चाफी से सहरफाटक को जोड़ने के लिए किया गया था. जब सड़क का निर्माण नहीं हुआ था तब मनरोला- मझोला मार्ग में बना यह पुल पहले के जमाने में पैदल जाने का एकमात्र रास्ता हुआ करता था. इसको बनाने के लिए साधारण से थोड़े बड़े पत्थरों का इस्तेमाल किया गया था. इसमें पत्थरों को बिना थोड़े या काटे ही पूरा हूबहू इस्तेमाल में लाया गया था. इन पत्थरों को आपस में जोड़ने के लिए उड़द की डाल और चूना का इस्तेमाल होता था जिससे इसकी गुणवत्ता अच्छी रहे और यह लंबे समय तक टिका रहे.

यह भी पढ़ें -   कुमाऊँ मंडल विकास निगम के 32 कर्मियों की हुई पदोन्नति

हालांकि समय के साथ-साथ इस पुल का रख रखाव भी कम होने लगा है. अक्सर चाफी घूमने आने वाली सैलानी इस पुल में मोटरसाइकिल या स्कूटी लेकर आ जाते हैं जो इसके भविष्य के लिए नुक्सानदायक है.

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments