प्रदेश में 8 फरवरी से खुलने जा रहे स्कूल, कोविड की गाइडलाइन का पालन करना होगी चुनौती ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

प्रदेश में स्कूल खुलने को लेकर कैबिनेट फैसले के बाद प्रदेश में खुलेंगे नौ हजार से अधिक स्कूल खुलने जा रहे है जिनमें उच्च प्राथमिक सरकारी, अशासकीय और प्राइवेट स्कूलों की संख्या 5452 है। जबकि 1354 हाईस्कूल और 2479 इंटरमीडिएट कॉलेज हैं।

स्कूल खुलने पर शारीरिक दूरी का पालन कराना सबसे बड़ी चुनौती होगी। सरकारी स्कूलों में पहले ही कक्षा चलाने के लिए जगह की कमी है। ऐसे में छह फीट की दूरी पर बच्चों को बैठाना बेहद मुश्किल होगा , प्रदेश में छह से 12वीं तक सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में 11 लाख से अधिक छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। हालांकि,इस शारिरिक दूरी को लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है क्लास का समय अलग-अलग तय करना होगा। साथ ही स्कूलों में होने वाली प्रार्थना सभाएं एवं खेल गतिविधियों पर भी रोक लगानी होगी।

यह भी पढ़ें -   चोपड़ा के वचनढूंगा में वायरक्रेट से प्लेटफार्म बनाने का कार्य अटका, पैसे तो मिल गए लेकिन नहीं मिल रहे ठेकेदार...

एक साथ स्कूल में सभी बच्चों को बुलाने पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर पाना नहीं होगा। वहीं सरकारी स्कूलों के हाल और भी बदतर है अभी तक कुछ जूनियर स्कूलों में एक ही कक्ष में दो या इससे अधिक कक्षाएं चलाई जा रही हैं।ऐसे में कोविड की गाइड लाइन का पालन कराना मुशिकल होगा ।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल में भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता के अवैध निर्माण को प्राधिकरण ने किया सील

वही शिक्षा विभाग के अधिकारियों के अनुसार स्कूल खुलने से पहले एसओपी जारी की जाएगी। साथ ही कोविड-19 की गाइड लाइन का पालन करवाते हुए स्कूल खोले जाएंगे सरकार की और से अभी एक से पांचवीं तक के स्कूलों पर अभी नहीं लिया गया है, इन स्कूलों के बच्चों की ऑनलाइन क्लास जारी रहेगी।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments