नैनीताल: राकेश टिकैत ने कहा- देशभर में बड़े आंदोलन की तैयारी में हैं किसान

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल पहुंचे किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा पहाड़ों में छोटे उद्योग और पर्यटन विकसित करने से थमेगा पलायन

नैनीताल। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत शनिवार को निजी दौरे पर नहीं पहुंचे। इस मौके पर मीडिया से वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि सरकार किसानों और आम आदमी की उपेक्षा कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार केवल उद्योगपतियों के बारे में सोच रही है। सरकार किसानों की जमीन पर उद्योग पतियों के जरिए कब्जा जमाना चाहती है। अब तक सरकार की ओर से एमएसपी को लेकर कोई स्पष्ट राय नहीं बनाई गई। कहा कि जल्द ही देशभर में किसान एकजुट होकर बड़ा आंदोलन करेंगे।

यह भी पढ़ें -   नाबालिग बाइक सवार की तेज रफ्तार ने ले ली स्कूटी सवार की जान... शादी के लिए शॉपिंग करने जा रहा था नैनीताल।

उन्होंने प्रदेश में बढ़ते पलायन के पीछे पर्याप्त उद्योग धंधे और सरकार के पास मजबूत ढांचा कार्ययोजना नहीं होना कारण बताया। कहा कि पहाड़ी क्षेत्रों में छोटे-छोटे उद्योग धंधे स्थापित करने के साथ पर्यटन संभावनाएं विकसित कर पलायन को कम किया जा सकता है।

शनिवार को निजी दौरे पर नैनीताल पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि उत्तराखंड ही नहीं पूरे देश में किसानों, मजदूरों और आम इंसान की बुरी स्थिति है। उत्तराखंड में पूर्व में शुरू किए गए उद्योग धंधों की पैकेज अवधि समाप्त हो रही है। ऐसे में भवन और अन्य सुविधाएं होने के बावजूद इंडस्ट्री बंद हो रही है। जिस कारण पहाड़ के लोगों को बाहर पलायन करना पड़ रहा है। ऐसे में सरकार को कंपनियों के पैकेज को बढ़ाना होगा। साथ ही पहाड़ों पर छोटे-छोटे उद्योग केंद्र स्थापित कर किसानों को सीधे उनसे जोड़ना होगा। पर्यटन कारोबार पहाड़ों के लिए बेहद अहम है।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल में नगर पालिका कर्मचारियों ने संविधान दिवस पर अंबेडकर को याद कर संविधान की ली शपथ...

होमस्टे और अन्य योजनाओं का संचालन का पहाड़ से पलायन को रोका जा सकता है। उन्होंने किसान आंदोलन को लेकर कहा कि मांगों को लेकर बड़े किसान आंदोलन के स्थगित होने के बाद अब केंद्र अथवा किसी भी राज्य की सरकार किसानों के मुद्दे पर बात नहीं करना चाहती। जिससे प्रतीत हो रहा है कि देश मे तानाशाही राज चल रहा है। कहा कि देश के विभिन्न क्षेत्रों में वहां की क्लाइमेट के आधार पर एग्रीकल्चर सेंटर स्थापित किए गए थे। मगर केंद्र सरकार इन रिसर्च सेंटरो के बजट में भी कटौती कर रही है। साथ ही रिसर्च का काम भी अब कई विदेशी कंपनियों को दिया जा रहा है। जिससे पहाड़ और किसानों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा। कहां की एमएसपी निर्धारण को लेकर सरकार अब तक कुछ कार्य नहीं कर पाई है। जिसको लेकर एक बार फिर देश भर के किसानों में विरोध का माहौल है। बहुत जल्द देश भर के किसान एकजुट होकर बड़ा आंदोलन करेंगे।

यह भी पढ़ें -   चंपावत: गर्भवती को बिना इलाज के ही डॉक्टरों ने हायर सेंटर कर दिया रेफर, एंबुलेंस में देना पड़ा बच्चे को जन्म…
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments