नैनीताल: 30 वर्ष से अधिक उम्र के मरीज हाई बीपी के शिकार, 50 फीसदी लोगों को नहीं चल पाता है बीमारी का पता…

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल। इस भागदौड़ भरी जिंदगी के बीच 30 वर्ष से अधिक आयु के वयस्कों में 50 फीसदी को उक्त रक्तचाप के बारे में पता ही नहीं चल पाता है। जिसके कारण यह बीमारी आगे चलकर धातक बन जाती है। ऐसे में सही समय में बीमारी का पता लगाकर उसका उपचार कराना चाहिए। यह बातें डब्लयूएचओ से संबद्ध डॉ. वीरेंद्र वानखेड़े ने मंगलवार को जिला चिकित्सालय बीडी पांडे में कहीं। मौका था एक अस्पताल में आयोजित एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: जल जीवन मिशन के तहत कार्य मानकों के अनुरूप नहीं मिले, जिलाधिकारी ने जल संस्थान के अधिशासी अभियंता को लगाई कड़ी फटकार.

मंगलवार को डब्ल्यूएचओ के डॉक्टर जितेंद्र वानखेड़े और डॉक्टर ललिता द्वारा नगर के जिला चिकित्सालय बीडी पांडे अस्पताल में डॉक्टरों स्टाफ नर्स व फार्मासिस्ट को उक्त रक्तचाप के प्रति लोगों को जागरूक करने के मकसद से ट्रेनिंग दी गई। ट्रेनिंग में डॉक्टर वीरेंद्र द्वारा बताया गया डब्ल्यूएचओ, आईसीएमआर व सरकार के सहयोग से प्रदेश के हर जनपद में जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। जिसमें उक्त रक्तचाप की बीमारी के मरीजों को निशुल्क जांच व दवाइयां वितरित की जाएंगी। जिन लोगों में उच्च रक्तचाप के मरीजों को निशुल्क उपचार के साथ ही दवाइयां भी वितरित की जाएंगी। कहा कि 30 वर्ष से अधिक आयु के सभी वयस्कों की हर महीने अस्पताल में जांच की जाएगी और उन्हें जागरूक किया जाएगा।

यह भी पढ़ें -   बलियानाला भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र के 99 परिवारों का बेलवाखान में होगा विस्थापन...
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments