बिना श्रद्धालुओं की मौजूदगी के अक्षय तृतीया पर खुलेंगे यमुनोत्री धाम के कपाट ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

कोरोना  को देखते हुए प्रदेश सरकार की ओर से चारधाम की यात्रा फिलहाल स्थगित रखी गई है वहीं कपाट खोलने की तैयारियां शुरू हो गई है। बीते वर्ष के तरह इस बार भी श्रद्धालुओं की मौजूदगी के बिना ही चारों धाम के कपाट खुलेंगे।

अक्षय तृतीया पर्व पर शुक्रवार दोपहर 12.15 बजे यमुनोत्री धाम के कपाट खोले जाएंगे। इससे पहले, सुबह 9.15 बजे देवी यमुना की उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दीस्थल खरसाली (खुशीमठ) से यमुनोत्री के लिए रवाना होगी।

यह भी पढ़ें -   लोक चित्रकला के प्रचार-प्रसार में जुटी भीमताल की पूजा पडियार पहुंची देश की राजधानी, कुमाऊं की संस्कृति से लोगों को कराया रूबरू…

यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश उनियाल ने बताया कि यमुनोत्री धाम में कपाट खोलने की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मंदिर को फूल मालाओं से सजाया गया है।कपाट खोलने के मौके पर और यमुना की उत्सव डोली यात्रा में सिर्फ 25 तीर्थ पुरोहित व बाजगी ही शामिल होंगे। यह निर्णय बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर लिया गया है। बताया कि खरसाली में देवी यमुना की उत्सव डोली रवाना होने की प्रक्रिया सुबह आठ बजे शुरू होगी। यमुना मंदिर से डोली शनिदेव के मंदिर में जाएगी और फिर शनिदेव की ही अगुआई में यमुनोत्री के लिए प्रस्थान करेगी।

यह भी पढ़ें -   भीमताल डैम की बुनियाद में लगेगा सिस्मोग्राफ और टोमोग्राफी सिस्टम...

गंगोत्री धाम के कपाट 15 मई सुबह 7.30 बजे खोले जाएंगे। इससे पूर्व, शुक्रवार सुबह 11.45 बजे मां गंगा की उत्सव डोली अपने शीतकालीन प्रवास स्थल मुखवा (मुखीमठ) से पहले पड़ाव स्थल भैरवघाटी के लिए रवाना होगी। यहां रात्रि विश्राम के बाद 15 मई सुबह पांच बजे डोली गंगोत्री के लिए प्रस्थान करेगी और ठीक 7.30 बजे अक्षय तृतीया की उदय बेला पर मंदिर के कपाट खोल दिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड पुलिस के 1611 कांस्टेबल को मिली पदोन्नति, बने हेड कांस्टेबल।

गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ने बताया कि प्रशासन को 21 व्यक्तियों की सूची दी गई है, जिनमें तीर्थ पुरोहित और बाजगी शामिल हैं। ये सभी उत्सव डोली यात्रा में शामिल होंगे।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments