नैनीताल में बिना सत्यापन घूम रहे भिक्षुक बनकर संदिग्ध, बच्चों से मंगवा रहे भीख… पुलिस अंजान

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल। नैनीताल में बीते एक साल से भिक्षुकों व मानसिक विकृति के लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। वहीं अब नंदा देवी महोत्सव के बाद से बाहरी राज्यों और शहरों से आये लोग भिुक्षुक बनकर घूम रहे हैं। ऐसे लोग पर्यटकों व स्थानीय लोगों से पैसे मांगते हुए अभद्रता करने लगे हैं। वहीं इनमें कई संदिग्ध भी हैं। ज्यादातर लोग बच्चों की आड़ में भिक्षावृत्ति कर रहे हैं। वहीं लोगों द्वारा कई बार शिकायत करने के बाद भी पुलिस न तो इन लोगों का सत्यापन कर पाई है, न ही इनकी कोई जानकारी पुलिस के पास है।

मालूम हो कि हाल ही में पुलिस ने ऑपरेशन मुक्ति भिक्षा नहीं, शिक्षा दें के तहत व्यापक अभियान की शुरुआत की थी, लेकिन नैनीताल में आपको ऐसी कई तस्वीर देखने को मिल जाएंगी, जो अलग ही कहानी बयां कर रही है। नंदा देवी महोत्सव के बाद से अचानक बाहरी राज्यों और क्षेत्रों से आए भिखारियों की संख्या अचानक बढ़ गई है। पुलिस द्वारा न तो इनका सत्यापन किया गया है न ही कोई कार्रवाई। मासूमों से खुलेआम भीख मंगवाई जा रही है। कई लोग खिलौने आदि बेच रहे हैं तो वहीं इनके बच्चे राहगीरों से भीख मांग रहे हैं। नंदा देवी मेले के बाद से ही अचानक इनकी संख्या बढ़ी हुई दिख रही है। ये कहां से हैं, कब आए, पुलिस के पास इनकी कोई जानकारी नहीं है।

यह भी पढ़ें -   कनालीछीना में शराब के नशे में धुत पुलिसकर्मी का वीडियो वायरल, स्थानीय लोगों ने महिला से छेड़छाड़ का लगाया आरोप...(वीडियो)

बिना सत्यापन के घूमते हुए ये लोग खुले में गंदगी फैलाते हैं। कई बार यह लोग भीड़ का फायदा उठाते हुए पर्यटकों का सामान भी चुरा लेते हैं। हैरानी की बात यह है कि पुलिस द्वारा न इनका सत्यापन कराया जा रहा है, न बच्चों द्वारा भीख मांगे जाने पर किसी तरह की कार्रवाई की जा रही है। इधर स्थनीय लोग एसे लोगों पर कारवाई करने के लगातार मांग कर रहे हैं, लेकिन उसके बाद भी पुलिस कोई कारवाई कर पा रही है। न एसे लोगों को शहर तक पहुंचने से रोक पा रही है। जिस कारण शहर का माहौल खराब हो रहा है।

यह भी पढ़ें -   चंपावत: गर्भवती को बिना इलाज के ही डॉक्टरों ने हायर सेंटर कर दिया रेफर, एंबुलेंस में देना पड़ा बच्चे को जन्म…


एसपी क्राइम डॉ. जगदीश चंद्रा ने बताया कि क्षेत्र में पुलिस भिक्षा मांगने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा। भिक्षा मांगने वाले लोगों पर ‌भिक्षा अधिनियम के तहत कारवाई की जाएगी।


नैनीताल एसडीएम राहुल साह का कहना है कि धारा 100 मेंटल हेल्थ केयर एक्ट 2017 में स्पष्ट रूप से संबंधित थाना प्रभारी की जिम्मेदारी तय की गई है। प्रशासन की ओर से सभी थानों को इस संबंध में निर्देशित किया गया है कि बाहरी व्यक्तियों के सत्यापन में सतर्कता बरती जाए।
———–
इन क्षेत्रों में रहते हैं भिक्षुक व मानसिक विकृति के लोग
– मल्लीताल नैनादेवी मंदिर
– चार्ट बाजार मल्लीताल
– बड़ा बाजार मल्लीताल
– पंतपार्क मल्लीताल
– मालरोड
– तल्लीताल डांठ
– अंडा मार्केट
– रोडवेज स्टेशन तल्लीताल

यह भी पढ़ें -   कुमाऊँ मंडल विकास निगम के 32 कर्मियों की हुई पदोन्नति
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments