हल्द्वानी:अब सुशीला तिवारी हॉस्पिटल में सस्ते दामों पर मिलेंगी दवाइयां,अक्टूबर से काम करने लगेगा स्टोर

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

हल्द्वानी। जैनरिक दवाओं की अब नहीं होगी किल्लत, आम जनमानस को सभी प्रकार की जैनरिक दवाऐं कम दामों पर उपलब्ध होगी। जिलाधिकारी सविन बंसल के प्रयासों से ब्यूरो ऑफ फार्मा पब्लिक सेक्टर अण्डरटेकिंग ऑफ इण्डिया (बीपीपीआई) ने डाॅ.सुशीला तिवारी चिकित्सालय में स्वयं जन औषधि केन्द्र संचालन की स्वीकृति दी। अक्टूबर माह के प्रथम सप्ताह से संचालित होगा।


श्री बंसल ने सीईओ बीपीपीआई को चार माह पूर्व सुशीला तिवारी चिकित्सालय हल्द्वानी में स्वंय प्रधानमंत्री जन औषधि केन्द्र के संचालन हेतु पत्र प्रेषित किया था, साथ ही लगातार उनसे दूरभाष पर वार्ता भी की। जिलाधिकारी ने सीइओ को बताया कि हल्द्वानी कुमाऊॅ का प्रवेश द्वार है। यहाॅ पहाड़ी जनपदों बागेश्वर, अल्मोड़ा, चपांवत, पिथौरागढ़ से भी मरीज उपचार हेतु आते हैं क्योंकि पर्वतीय जनपदों की अपेक्षा यहाॅ बेहतर चिकित्सा सुविधाऐं हैं। इसलिए डाॅ.सुशीला तिवारी चिकित्सालय में बीपीपीआई के माध्यम से जन औषधि केन्द्र संचालित करने का अनुरोध किया। जिसे बीपीपीआई द्वारा स्वीकृति प्रदान की व अक्टूबर माह के प्रथम सप्ताह से संचालित होगा।

यह भी पढ़ें -   यहां दो चचेरी बहनों ने संदिग्ध परिस्थितियों में जहरीला पदार्थ गटका, हुई मौत ।

जिलाधिकारी श्री बंसल ने कहा कि जन
औषधि केन्द्र का शुभारंभ शीघ्र ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा किया जायेगा। उन्होंने बताया कि बीपीपीआई द्वारा संचालित यह प्रदेश का प्रथम व देश का चौथा जन औषधि केन्द्र होगा। जिसे एक आदर्श जन औषधि केन्द्र के रूप में संचालित किया जायेगा। जिलाधिकारी द्वारा बीपीपीआई व चिकित्सालय के मध्य एमओयू करा दिया गया है, इसके साथ ही ड्रग लाईसेंस व कक्ष आवंटन भी करा दिया गया है।

यह भी पढ़ें -   28 फरवरी को हल्द्वानी में होगा "द वॉइस ऑफ हिल" सिंगिग रियलिटी शो का ग्रांड फिनाले,पूरे देशभर में होगा लाइव प्रसारण।

उन्होंने कहा कि बीपीपीआई द्वारा संचालित जन औषधि केन्द्र में सभी दवाईयाॅ काफी कम दाम पर उपलब्ध होंगी क्योंकि इसमें बीपीपीआई स्वयं नियंत्रक संस्था व औषधि केन्द्र की संचालक होने के कारण इसमें बिचोलियों (अन्य एजेन्सियों) की भूमिका नहीं होगी। उन्होंने कहा कि बीपीपीआई की गाइडलाइन व निर्देशन में जिला प्रशासन द्वारा जनपद के बेस चिकित्सालय हल्द्वानी, महिला चिकित्सालय हल्द्वानी, बीडी पाण्डे चिकित्सालय नैनीताल व रामनगर चिकित्सालय में भी शीघ्र जन औषधि केन्द्र संचालित किये जायेंगे, जिसकी कवायद जारी है।

यह भी पढ़ें -   शिक्षक बनने का ख्वाब देख रहे युवाओं को मिली बड़ी राहत, बीएड की अनिवार्यता हुई खत्म ।
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments