हल्द्वानी :- प्रवेश सीट बढ़ाने की मांग को महाविद्यालय में अनशन पर बैठे छात्रों ने आंदोलन किया खत्म, प्राचार्य ने जूस पिलाकर तुड़वाया अनशन

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

हल्द्वानी: प्रवेश सीट बढ़ाने सहित कई मांगों के लिए एमबीपीजी कालेज में अनशन पर बैठे छात्रनेताओं ने आंदोलन खत्म कर दिया है। सोमवार को प्राचार्य ने जूस पिलाकर सभी का अनशन तुड़वा दिया।इससे पहले सुबह छात्रों ने आत्मदाह की भी चेतावनी दी थी। बाद में संयुक्त वार्ता के दौरान छात्रों की मांगों पर प्राचार्य व शिक्षकों ने सहमति व्यक्त की है।

एमबीपीजी कालेज के चार छात्रनेता निहित नेगी, सूरज सिंह जंतवाल, मुकेश व संस्कार रस्तोगी शनिवार शाम से बेमियादी अनशन पर बैठ गए थे। रविवार शाम को चारों की तबीयत खराब हो गई तो उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। इसके बाद दूसरे छात्रनेता अनशन पर बैठ गए थे। सोमवार को प्राचार्य डा. बीआर पंत के कहने पर सभी शिक्षकों व छात्रनेताओं की वार्ता हुई, जिसमें सभी मुद्दों पर सहमति के बाद छात्रनेताओं ने अनशन खत्म कर दिया।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल के ऐतिहासिक बैंड स्टैंड पर 76 लाख रुपये से होगी भूधंसाव की रोकथाम...

उन्होंने ने इसे आंदोलन की जीत बताया है। साथ ही चेतावनी दी है कि आश्वासन अगर जल्द पूरी नहीं किए गए तो नौ नवंबर के बाद फिर से धरना प्रदर्शन करेंगे। वार्ता के दौरान डा. कमला पंत, प्रवेश प्रभारी प्रो. पंकज कुमार, डा. शैलजा, डा. अमित सचदेवा, डा. रश्मि पंत, डा. प्रभा पंत आदि मौजूद थीं।

यह भी पढ़ें -   गणतंत्र दिवस के अवसर पर सरोवर नगरी में बजाए जाएंगे देशभक्ति के गीत..

इन मांगों पर बनी सहमति

सीट बढ़ाने के लिए निदेशक को प्रस्ताव भेजेंगे
सांध्यकालीन कक्षाओं के लिए शासन को प्रस्ताव भेजेंगे
तीसरी मेरिट सूची में 10 नवंबर तक प्रवेश होंगे
तीसरी सूची के बाद रिक्त सीटों पर आफलाइन प्रवेश होगा
पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर कम मेरिट में भी प्रवेश
अभी तक 806 सीटें हैं रिक्त

यह भी पढ़ें -   नगरपालिका नैनीताल के अधिकारियों ने संविधान को मजबूत बनाने का लिया संकल्प...

एमबीपीजी कालेज में अभी तक 806 सीटें रिक्त हैं। कुल 3120 में 2314 पर प्रवेश प्रक्रिया पूरी हो गई है। प्रवेश प्रभारी प्रो. पंकज कुमार ने बताया कि बीए में अभी तक 1068, बायो में 386, मैथ में 378 व कामर्स में 482 छात्र-छात्राओं के प्रवेश हुए हैं।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments