कोविड़ के चलते लगातार दूसरे साल भी रद्द हो सकती है, विश्व प्रसिद्ध कैलाश मानसरोवर यात्रा ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

कोरोना संक्रमण के चलते लगातार दूसरे साल भी विश्व प्रसिद्ध कैलाश मानसरोवर और आदि कैलाश यात्रा को रद्द किया जा सकता है इससे पूर्व चार धाम यात्रा को भी स्थगित किया गया था विश्व की सबसे बड़ी धार्मिक यात्रा कैलाश मानसरोवर यात्रा 12 जून से शुरू होकर सितंबर माह के दूसरे सप्ताह तक चलती थी लेकिन कोविड-19 के चलते लगातार दूसरे साल भी इस यात्रा को रोकना पड़ सकता है ऐसे में यात्रा ना होने से कुमाऊँ मंडल विकास निगम को करीब 4 से 5 करोड़ के राजस्व का नुकसान उठाना पड़ सकता है इसके साथ ही काठगोदाम से लेकर पिथौरागढ़ और सीमांत क्षेत्र गूंजी तक की यात्रा के पड़ाव में जगह जगह है होटल और तमाम व्यवसाय से जुड़े लोगों भी नुकसान होगा जून के दूसरे पखवाड़े से शुरू होने वाली मानसरोवर यात्रा की शुरुआत ही देव भूमि उत्तराखंड से होती है यात्रा के पहले पांच पड़ाव उत्तराखंड काठगोदाम भीमताल और पिथौरागढ़ के साथ ही गूंजी और नाभि ढांग को पार कर चीन तिब्बत बॉर्डर तक पहुँचती है,

यह भी पढ़ें -   वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पुण्यतिथि: पेशावर के इस महानायक को बीच सभा में गांधी जी ने टोका- यह गोरखा हैट पहने मुझे डराने के लिए कौन यहां बैठा है?

ऐसे में लगातार दूसरी बार यात्रा के ना होने से कुमाऊँ मंडल विकास निगम को अकेले 5 करोड़ से अधिक का नुकसान होगा साथ ही प्रदेश को भी भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा गौरतलब है कि कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वाले यात्री सीमावर्ती क्षेत्रों में न सिर्फ होमस्टे मैं विश्राम करते हैं बल्कि पहाड़ी उत्पादों से बने व्यंजनों का भी स्वाद लेते हैं जिससे सीमावर्ती क्षेत्र मैं रहने वाले लोगों की आर्थिक स्थिति भी मजबूत होती हैऐसे में यदि इस वर्ष भी विश्व प्रसिद्ध कैलाश मानसरोवर यात्रा को रद्द किया जाता है तो प्रदेश के साथ ही सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की आर्थिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ेगा

यह भी पढ़ें -   पांच वक्त की नमाज पढ़ने वाले नासिर और अनवर भी राम के आदर्शों को मानते हैं प्रेरणा...
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments