शिक्षक बनने का ख्वाब देख रहे युवाओं को मिली बड़ी राहत, बीएड की अनिवार्यता हुई खत्म ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बेरोजगार युवाओं के हित में आज बड़ा निर्णय लिया है । मुख्यमंत्री की ओर से जारी हुए आदेश के अनुसार शिक्षा विभाग में एलटी पदों पर होने वाली भर्ती के लिए कला विषय के अभ्यर्थियों के लिए बीएड की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है। जिसका सीधे तौर पर युवाओं को लाभ मिलने जा रहा है

यह भी पढ़ें -   राजस्थान से उत्तराखंड लाई गई अवैध शराब के साथ दो आरोपी गिरफ्तार

शिक्षा विभाग के द्वारा जारी नियमावली में कला विषय के अभ्यर्थियों के लिए पहली बार बीएड की बाध्यता को अनिवार्य किया गया था। लेकिन ऐसा होने से उन अभ्यार्थियों को एलटी भर्ती परीक्षा में शामिल होने का मौका नहीं मिलता जिन्होंने बीएड नहीं किया था। क्योंकि कला विषय प्रयोगात्मक विषय है। और इसलिए अब तक उत्तराखंड में B.Ed की अनिवार्यता कला विषय के लिए नहीं की गई थी लेकिन पहली बार B.Ed की अनिवार्यता को अनिवार्य किया,जिसके बाद यह मामला मुख्यमंत्री के पास पहुँचा,मुख्यमंत्री ने तुरंत इसका हल निकाला और कला विषय के लिए बीएड की अनिवार्यता को खत्म करने की संस्तुति दे दी है ,जिसपर अब शिक्षा सचिव की ओर से आदेश भी जारी हो गया है। जिसके बाद अब कला विषय में मात्र स्नातक अंतिम वर्ष तक ड्राइंग एंड पेंटिंग विषय के साथ जो भी अभ्यार्थी पास हो वह शिक्षक बनने का ख्वाब देखने के साथ इस बार एलटी भर्ती परीक्षा में शामिल हो पाएंगे ।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड :- 4 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी का देहरादून दौरा,सीएम धामी ने लिया व्यवस्थाओं का जायजा
लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

हमारे इस नंबर 9368692224 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

👉 Hills Mirror के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 Hills Mirror के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 Hills Mirror से Telegram पर जुड़ें

👉 हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments