शिक्षक बनने का ख्वाब देख रहे युवाओं को मिली बड़ी राहत, बीएड की अनिवार्यता हुई खत्म ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बेरोजगार युवाओं के हित में आज बड़ा निर्णय लिया है । मुख्यमंत्री की ओर से जारी हुए आदेश के अनुसार शिक्षा विभाग में एलटी पदों पर होने वाली भर्ती के लिए कला विषय के अभ्यर्थियों के लिए बीएड की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है। जिसका सीधे तौर पर युवाओं को लाभ मिलने जा रहा है

यह भी पढ़ें -   कोरोना के मामलों में आज फिर जबरदस्त बढ़ोतरी,भयावह आंकड़े आ रहे सामने

शिक्षा विभाग के द्वारा जारी नियमावली में कला विषय के अभ्यर्थियों के लिए पहली बार बीएड की बाध्यता को अनिवार्य किया गया था। लेकिन ऐसा होने से उन अभ्यार्थियों को एलटी भर्ती परीक्षा में शामिल होने का मौका नहीं मिलता जिन्होंने बीएड नहीं किया था। क्योंकि कला विषय प्रयोगात्मक विषय है। और इसलिए अब तक उत्तराखंड में B.Ed की अनिवार्यता कला विषय के लिए नहीं की गई थी लेकिन पहली बार B.Ed की अनिवार्यता को अनिवार्य किया,जिसके बाद यह मामला मुख्यमंत्री के पास पहुँचा,मुख्यमंत्री ने तुरंत इसका हल निकाला और कला विषय के लिए बीएड की अनिवार्यता को खत्म करने की संस्तुति दे दी है ,जिसपर अब शिक्षा सचिव की ओर से आदेश भी जारी हो गया है। जिसके बाद अब कला विषय में मात्र स्नातक अंतिम वर्ष तक ड्राइंग एंड पेंटिंग विषय के साथ जो भी अभ्यार्थी पास हो वह शिक्षक बनने का ख्वाब देखने के साथ इस बार एलटी भर्ती परीक्षा में शामिल हो पाएंगे ।

यह भी पढ़ें -   सल्ट विधानसभा उपचुनाव, प्रचार थमा,कांग्रेस के प्रदेश सचिव विजय चंद्र ने गिनायी बीजेपी की खामियां, हरीश रावत ने सरकार पर बोला जमकर हल्ला ।
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments