उत्तराखडं :- आफत की बारिश, 200 से ज़्यादा सड़क मार्ग हुए बंद , 800 गांवों से टुटा संपर्क,मौसम विभाग ने 22 जून तक अलर्ट किया जारी ,

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

पहाड़ों में लगातार हो रही बारिश के चलते जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है बारिश के चलते जहां पहाड़ी क्षेत्रों में कहीं जगह मलबा आने से सड़कें बंद हैं तो वहीं मैदानी क्षेत्रों में नदियां उफान पर हैं हालांकि मैदानी क्षेत्रों में बारिश के चलते गर्मी से कुछ राहत जरूर मिली है लेकिन लगातार हो रही बारिश से कहीं नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं मौसम विभाग ने 22 जून तक प्रदेश में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है बीते 24 घंटे के दौरान चमोली जिले में सबसे अधिक193.22 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई है वही कुमाऊं क्षेत्र के बागेश्वर में 142 और नैनीताल जिले में 118 मिमी रिकॉर्ड बारिश दर्ज की गई है भारी बारिश के चलते बद्रीनाथ केदारनाथ हाईवे के साथ ही टनकपुर पिथौरागढ़ को जोड़ने वाली ऑल वेदर रोड और चमोली जिले में चीन सीमा को जोड़ने वाले मार्ग में कहीं जगह भारी मलवा आने के चलते सड़कें बंद हैं

यह भी पढ़ें -   नैनीताल में 77 करोड़ की सीवर परियोजना का काम शुरू, पहले चरण में किया जा रहा सीसीटीवी सर्वे

भारी बारिश के चलते हो रहे भूस्खलन के कारण अब तक 200 से ज्यादा सड़क मार्ग आवाजाही के लिए बंद हो चुके हैं जिसके चलते 800 से अधिक गांवों का संपर्क टूट गया है गढ़वाल क्षेत्र में गंगा मंदाकिनी और अलकनंदा तो वही कुमाऊं में गोमती सरयू गौरी और काली नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं वही हरिद्वार और ऋषिकेश में कई जगह घाट जलमग्न हो चुके हैं नदियों में आए उफान को देखते हुए प्रशासन ने कई शहरों के तटीय क्षेत्रों को खाली करा दिया है मौसम विभाग ने अभी कई जिलों में भारी बारिश की संभावनाएं जताई हैं जिसके चलते आपदा प्रबंधन विभाग भी सतर्क हो गया है

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में 24 दिसंबर को होंगे छात्र संघ चुनाव, छात्रों के आंदोलन पर शासन का आदेश जारी।
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments