उत्तराखंड :- नैनीताल हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा को इन शर्तो के साथ शरू करने की दी इजाजत ,हर रोज 800 श्रद्धालु कर सकेंगे बाबा केदार के दर्शन

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा के कुछ शर्तों के साथ शुरू करने की इजाजत दे दी है। मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने सरकार कीयाचिका पर सुनावाई करते हुए दिए गए आदेश में कहा है कि केदारनाथ में हर रोज 800, बदरीनाथ् में 1200, गंगोत्री में 600 और यमनोत्री धाम में 400 यात्रियों के जाने की इजाजत देनी होगी। इसके अलावा श्रद्धालुओं को कोविड निगेटिव सर्टिफिकेट और कोविड वैक्सीन के दोनों टीके लगाने के बाद धामों में जाने की इजाजत सरकार देगी। अदालत ने कहा कि चारों धामों के किसी भी कुंड में किसी को स्नान करने की इजाजत नहीं होगी। जिन जिलों में ये धाम पड़ते हैं वहां यात्रा रूट पर आवश्यकतानुसार पुलिस बल तैनात करने के आदेश भी ​कोट ने दिए हैं।

यह भी पढ़ें -   कहीं यह बरसात फिर कोई आफत बनकर न बरसे...

उत्तराखंड की प्रसिद्ध चारधाम यात्रा पर रोक हटाने को लेकर प्रदेश सरकार की ओर से दाखिल प्रार्थना पत्र पर आज सुनवाई हुई। बुधवार को सरकार की ओर से प्रार्थना पत्र दाखिल कर रोक हटाने का आग्रह किया गया था।कोविड के मामलों में बढ़ोतरी, स्वास्थ्य सुविधाओं में कमी व अन्य अव्यवस्थाओं से संबंधित जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने जून में चारधाम यात्रा पर अग्रिम आदेशों तक रोक लगा दी थी। इस आदेश के खिलाफ प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका दाखिल की थी, जिस पर सुनवाई नहीं हो सकी थी

यह भी पढ़ें -   नैनीताल का ऐतिहासिक बैंड स्टैंड झील में समाने का डर, आवाजाही रोकी गयी...
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments