पौधा एक लोग अनेक, प्रकृति प्रेमी एक से बढ़कर एक…

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल। मानसून के सीजन में नेताओं का पर्यावरण प्रेम उमड़ना तो लाजिमी है। आए दिन पौधरोपण कार्यक्रम बढ़-चढ़कर आयोजित भी हो रहे हैं। होने भी चाहिए, क्योंकि ये धरती हरी भरी रहेगी तब ही तो हम लोग सुरक्षित रह पाएंगे। मगर यह बात समझ से परे है कि पौधरोपण के इन भारी-भरकम कार्यक्रमों में एक नन्हे पौधे पर इतने जन मानस आकर क्यों टूट पड़ते हैं।

यह भी पढ़ें -   चोपड़ा के वचनढूंगा में वायरक्रेट से प्लेटफार्म बनाने का कार्य अटका, पैसे तो मिल गए लेकिन नहीं मिल रहे ठेकेदार...

कार्यक्रम की टीआरपी बढ़ाने के लिए प्रेस विज्ञप्ति तैयार की जाती हैं और हर मीडिया संस्थान में बराबर दी जाती है, जिससे उनके द्वारा किए गए पौधरोपण से लोग शिक्षा लें और वह भी ऐसा ही करें।

मगर यह पौधरोपण अगर दिल से हो तो अच्छा लगता है दिखावे के पौधरोपण कार्यक्रम आज कल आयोजित किए जा रहे हैं। महज फोटो खिंचाने के लिए और अखबारों में छपने के लिए 1 पौधे पर नेता जी के साथ दर्जनों कार्यकर्ता टूट पड़ रहे हैं। चाहे वह फोटो कितनी ही अशालीन क्यों ना दिख रही हो। पौधे पर किया गया यह अत्याचार क्या वाकई प्रेरक माना जा सकता है?

यह भी पढ़ें -   नैनीताल में भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता के अवैध निर्माण को प्राधिकरण ने किया सील

रविवार को नैनीताल के सूखाताल में पूर्व शिक्षा मंत्री और गदरपुर विधायक अरविंद पांडे के नेतृत्व में पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उनकी कुछ तस्वीरें आम आदमी के हृदय को काफी तकलीफ दे रही हैं। जिसमें सिर्फ एक पौधा लगाने के लिए इतना दिखावा किया जा रहा है। कुछ दिन पहले इसी क्षेत्र में यहां कई हरे पौधों की हत्या कर दी गई थी। तब यह पर्यावरण प्रेमी दूर-दूर तक नजर नहीं आए थे।

यह भी पढ़ें -   चोपड़ा के वचनढूंगा में वायरक्रेट से प्लेटफार्म बनाने का कार्य अटका, पैसे तो मिल गए लेकिन नहीं मिल रहे ठेकेदार...

प्रकृति प्रेम हर मनुष्य में होना जरूरी है, लेकिन प्रकृति को सहेजने के लिए कुछ सच में दिल से करने का जज्बा दिखना चाहिए। तब हमारे द्वारा खींची गयी तस्वीर सार्थक दिखती है।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments