यहाँ महिला कनिष्ठ अभियंता ने जिला विकास अधिकारी पर लगाया अश्लील हरकत करने का आरोप। पुलिस ने किया जिला विकास अधिकारी को गिरफ्तार

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

उत्तरकाशी जनपद के पुरोला ब्लॉक में कार्यरत एक महिला कनिष्ठ अभियंता ने जिला विकास अधिकारी पर तबादले पर चर्चा के बहाने गेस्ट हाऊस बुलाकर उसका यौन शोषण करने का प्रयास करने का आरोप लगाया था। पुलिस ने कनिष्ठ अभियंता की तहरीर पर डीडीओ के खिलाफ धारा 354 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया था। अब समाचार यह है कि पुलिस ने इस मामले में क्षेत्रीय लोगों के आक्रोश को देखते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। इसके बाद बुधवार को पुलिस ने आरोपी को न्यायालय में पेश किया, और न्यायालय के आदेश पर उसे सात दिन की न्यायायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।

यह भी पढ़ें -   पौडी जिले के ही होंगे देश के अगले सीडीएस, बिपिन रावत के बाद अनिल चौहान को मिली बड़ी जिम्मेदारी...

उल्लेखनीय है कि महिला ने तहरीर में आरोप लगाया था कि जिला विकास अधिकारी उत्तरकाशी-विमल कुमार उसे पुरोला बाजार में गत 23 अगस्त की शाम को मिले। उन्होंने उससे कहा कि वह अपने तबादले संबंधी मामले पर उससे लोनिवि गेस्ट हाउस में आकर मिले। इस पर अगले दिन सुबह 9 बजे वह डीडीओ से मिलने गेस्ट हाउस जा पहुंची।

यह भी पढ़ें -   धामी सरकार में बड़े फेरबदल की तैयारी, कुमाऊं के इस ब्राह्मण नेता को मिल सकता है मौका…

जिला विकास अधिकारी ने उसके वहां पहुंचने पर वहां पहले से मौजूद बीडीओ को जाने को कह दिया। इसके बाद वह उससे बोला, ”तुम हमेशा रोती रहती हो, मुझे एक लाख रुपए वेतन मिलता है, तुम मेरे साथ रह सकती हो।” ऐसा कहने के बाद डीडीओ ने उसका हाथ पकड़ लिया, और विरोध करने के बावजूद उसका हाथ खींचा और गाल पर चूमने का प्रयास किया। साथ ही जबरन उसके साथ यौन शोषण करने का प्रयास करने लगा। वह किसी प्रकार अपनी इज्जत बचाकर वहां से भाग आईइस घटना के बाद से वह मानसिक रूप से विकृति का शिकार हो गई है, तथा डरी रहती है। उसे भय है कि आरोपित आगे भी किसी घटना को अंजाम दे सकता है। इसलिए उसे तत्काल गिरफ्तार कर उसके खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई की जाए। थानाध्यक्ष ने बताया कि महिला कर्मी की तहरीर पर आरोपित डीडीओ विमल कुमार के खिलाफ छेड़छाड़ व अश्लील हरकत की धारा में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया है।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में अल्मोड़ा में हुई थी सबसे पहले रामलीला, पेट्रोमैक्स और चीड़ के छिलके जलाकर होता था मंचन
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments