नैनीताल जिले के हर गांव को मिलेगी 5 जी की  सुविधा.. 

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

 नैनीताल। भारत सरकार नई तकनीक पर कार्य कर रही है। जिसके तहत जिले के सभी ग्राम पंचायतों को कॉर्मिशलय मोबाईल सर्विसेस पर आधारित 4जी व 5जी से जोड़ा जाएगा। इस प्लान पर भारत सरकार द्वारा कार्य किया जा रहा है। भारत सरकार द्वारा देश के ऐसे गांव चिन्हित किये जा गए हैं, जहां पर अभी तक किसी प्रकार की कनेक्टविटी नहीं है, ऐसे स्थानों पर एक साल के अंदर एक लाख टावर लगाये जायेंगे। साथ ही जिन स्थानों पर 2जी व 3जी कनेक्टविटी है, उन स्थानों पर 4जी और 5जी की कनेक्टविटी दी जायेगी। यह बातें संचार मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली के डायरेक्टर जनरल संयुक्त सचिव एसके अग्रवाल ने की।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड: पहाड़ियों को लेकर फेसबुक पर डाली आपत्तिजनक पोस्ट, मुकदमा हुआ दर्ज...

राज्य अतिथि गृह में शुक्रवार को नैनीताल जिले में कनेक्टिंग रूरल एरिया पर ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क और आपदा प्रबन्धन विषय से जुड़े अधिकारियों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। बैठक का उद्देश्य  नैनीताल जिले में आपदा के दौरान प्रभावित क्षेत्रों में एक बेहतरीन कनेक्टिविटी के साथ आपदा ग्रस्त क्षेत्रों में त्वरित गति से सहायता पहुंचाना है।

बैठक को संबोधित करते हुए केएस अग्रवाल ने कहा कि आपदा के दौरान आपस में बेहतर तालमेल  व कनेक्टविटी होना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि भारत  नेट राष्ट्रीय ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्किंग के तहत ग्राम पंचायतों को जोड़ा जा रहा है, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में ई-शिक्षा ई- स्वास्थ्य, ई-बैंकिंग आदि के विवरण को आसान बनाया किया जा सके।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी: लालकुआं के एलबीएस कॉलेज में छात्र संघ चुनाव को लेकर मारपीट का मामला, अराजक तत्वों की गुंडागर्दी…

बैठक में जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने बताया कि  जिले के उन संवेदनशील स्थानों पर आपदा के दौरान तत्काल  कार्रवाई के लिए क्यूआरटी  (क्विक रिस्पांस टीमो) का गठन किया जाता है।  साथ ही आपस में समन्वय बनाने के  लिए  जिला मुख्यालय के साथ ही प्रत्येक तहसील एव थानो में कंट्रोल रूम स्थापित किए जाते हैं, जिससे आपदा क्षेत्र की त्वरित गति से सूचना मिल सके। आपदा से पूर्व पर्याप्त मात्रा में खाद्य सामग्री, ईंधन, दवाइयां एवं अन्य दैनिक सामग्रियों का भंडार सुरक्षित किया जाता है। समय-समय पर जन जागरूकता के लिए मॉक ड्रिल का आयोजन किया जाता है। उन्होंने बताया कि आपदा के दौरान बचाव व राहत कार्य के लिए आपदा प्रबंधन टीम, एनडीआरएफ टीम, एसडीआरएफ, पुलिस विभाग, आइटीबीपी, सीआरएफ साथ ही आवश्यकता पड़ने पर आर्मी के साथ ही अन्य का भी सहयोग लिया जाता है।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: कुविवि की शोध छात्रा रहीं डॉ. अनीता राणा का विदेश में उच्च शोध के लिए हुआ चयन...

इस दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. भागीरथी जोशी, उपजिलाधिकारी राहुल साह, पुलिस क्षेत्राधिकारी विभा दीक्षित, बीएसएनएल जीएम महेश कुमार, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनुपमा ह्यांकी, ई-डिस्ट्रीक मैनेजर विकास शर्मा, के साथ वन विभाग, परिवहन विभाग, लोक निर्माण विभाग, जल संस्थान, सिंचाई, विद्युत के साथ ही आपदा से जुडे सम्बन्धित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।