देहरादून :- प्रदेश सरकार की निगरानी में बिकेगी ब्लैक फंगस की दवा ,सरकार ने निर्देश किये जारी

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

[ हिल्स मिरर ] ब्लैक फंगस की दवा की कालाबाजारी और जमाखोरी को रोकने के लिए प्रदेश सरकार की ओर से एसओपी जारी की गयी है जिसके अनुसार क फंगस की दवा एंफोटेरिसिन बी के वितरण पर पूरी तरह से सरकार का नियंत्रण रहेगा। दवा केवल कोविड अस्पतालों, मेडीकल कॉलेजों और सरकार की अन्य चिकित्सीय संस्थाओं को ही उपलब्ध कराई जाएगी। जारी एसओपी के अनुसार दवा का वितरण एक अलग व्यवस्था के तहत होगा। व्यवस्था के अनुसार भंडारण और मांग की पूर्ति करने के लिए कुमाऊं में डॉ. रश्मि पंत और गढ़वाल में डॉ. कैलाश गुनियाल को नोडल बनाया गया है।

यह भी पढ़ें -   नाबालिग बाइक सवार की तेज रफ्तार ने ले ली स्कूटी सवार की जान... शादी के लिए शॉपिंग करने जा रहा था नैनीताल।

इसी तरह अस्पतालों और अन्य संस्थाओं को कहा गया है कि वे दवा की मांग के बारे में दून मेडीकल कॉलेज के डॉ. नारायणजीत सिंह और कुमाऊं में हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज के डॉ. एसआर सक्सेना से संपर्क करेंगे एसओपी में दवा के उचित इस्तेमाल के निर्देश के के साथ ही ब्लैक फंगस के मामले बढ़ने पर चिंता जताई गई है यह रोग कोविड-19 के संक्रमण में साथ-साथ उभर कर सामने आ रहा है। ऐसे में इस रोग की दवा का उचित इस्तेमाल किया जाना जरूरी है। इससे पहले ब्लैक फंगस की रोकथाम के लिए गठित समित ने भी अपने सुझाव सरकार को सौंपते हुए रोग के नियंत्रण के लिए तैयारी पूरी करने का सुझाव दिया गया था

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments