अल्मोड़ा :- सरकारी महिला चिकित्सक ने पति ससुर और सास पर लगाया उत्पीड़न का आरोप,पुलिस ने किया मामला दर्ज

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

अल्मोड़ा। यहां के एक सरकारी चिकित्सालय में तैनात एक महिला चिकित्सक ने दिल्ली निवासी अपने पति, ससुर और सास के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, मारपीट और धमकाने का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने मामला दर्ज करके छानबीन शुरू कर दी है।महिला थानाध्यक्ष को संबोधित अपनी तहरीर में सरकारी चिकित्सालय की एक महिला चिकित्सक ने कहा है कि उनका विवाह 15 फरवरी 2002 को नई दिल्ली निवासी एक चिकित्सक के साथ हुआ था। विवाह के बाद वह ससुराल में ही रहती थी । विवाह के एक माह के बाद से ही उनकी सास , ससुर व पति उसके साथ दहेज के लिए मारपीट करने लगे थे। ये तीनों उसे ताना मारते कि ‘तू अपने माता पिता की इकलौती लडकी है, तेरे मायके में जो कुछ भी है वो हमारा ही है’ वे पीड़िता पर मायके से पैसे लाने का दबाव बनाते रहते थे। उसने सारी राम कहानी अपने माता पिता को कह सुनाई थी।एक बार उसे पति ने उससे 25 लाख रूपये मंगा कर लैब खोली। पति ने लैब खोली और कुछ दिनों बाद अपने कब्जे में कर ली । इसके बाद भी ससुरालियों का उत्पीड़न कम नहीं हुआ। वे उसे दहेज में और रकम न लाने पर जान से मारने की धमकी भी देते थे और कहते थे कि ‘तुझे भी मार देंगे तो तेरे आगे पीछे कौन है और तेरे बूढे माँ बाप हमारा क्या बिगाड़ लेंगे ।’पीड़िता का कहना है कि वह उनके अत्याचार सहती रही यही सोचकर कि आज नहीं तो कल उसका पति सुधर जाएगा।महिला चिकित्सक के दो बच्चे भी हैं। कुछ वक्त पूर्व पति उसे व बच्चों को मायके छोड़ गया। तहरीर में लिखा है कि पति ने उससे कहा था कि ‘जब तक 50 लाख रूपय अपने घरवालों से नही लाएगी तब तक मेरे घर नही आना ’। इसके बाद भी वह अक्सर उसके घर आता और उससे पैसों की माँग करता था । महिला ने पुलिस को बताया कि उसके पास 11 ताले के सोने के जेवरात व नौ तोले के चांदी के जेवरात थे। जो उसकी ससुराल वालों के कब्जे में ही हैं।पीड़िता का कहना है कि उसके पति ने उस पर सर्वोच्च न्यायालय में एक झूठा केस भी किया था जिसे अदालत ने 7 अप्रैल 2021 को निरस्त कर दिया। वर्तमान में वह अल्मोड़ा के एक सरकारी चिकित्सालय में कार्यरत है। अपने दोनों बच्चों के साथ माता-पिता के घर पर ही रहती है। परन्तु पति द्वारा बार बार उसका मानसिक उत्पीडन किसी न किसी तौर पर किया जा रहा है ।पीड़िता ने पुलिस ने स्वयं उसकी, बच्चों व माता पिता की सुरक्षा के लिए गुहार भी लगाई है। पुलिस ने पीड़िता के पति, ससुर और सास के खिलाफ मामला दर्ज करके छानबीन शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें -   पहले डकारा फिर नकारा: अगस्त में नैनीताल में भाजपा ने कार्यक्रम कराया, अब ठेकेदार का भुगतान करने पर टाल मटोली
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments