उत्तराखंड के सभी 3400 पुलों का होगा सुरक्षा ऑडिट, दुर्घटना के लिए लोक निर्माण विभाग के अधिकारी होंगे जिम्मेदार।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

हाल ही में गुजरात के मोराबी में झूला पुल टूटने के कारण हुई दुर्घटना को देखते हुए अब उत्तराखंड सरकार भी अलर्ट मोड पर आ गई है। शासन ने लोक निर्माण विभाग को प्रदेश के सभी पुलों का सुरक्षा आडिट करने के साथ ही तीन सप्ताह के भीतर इनके मेंटेनेंस और स्थिति को लेकर रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें -   कनालीछीना में शराब के नशे में धुत पुलिसकर्मी का वीडियो वायरल, स्थानीय लोगों ने महिला से छेड़छाड़ का लगाया आरोप...(वीडियो)

मालूम हो कि उत्तराखंड में इस समय 3400 से अधिक छोटे-बड़े पुल हैं। इनमें मोटर पुल व पैदल मार्ग पुल भी शामिल हैं। कई जगह झूला पुल हैं, जिनमें से कई ब्रिटिश कालीन हैं। कुछ का लंबे समय से रखरखाव नहीं हुआ है। कुछ झूला पुलों पर आवश्यकता से अधिक भार की आवाजाही हो रही है। जिसे देखते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लोक निर्माण विभाग को प्रदेश में सभी पुलों की स्थिति जानने और उन्हें दुरुस्त करने के निर्देश दिये थे।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड पुलिस के 1611 कांस्टेबल को मिली पदोन्नति, बने हेड कांस्टेबल।

इसी क्रम में अब प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग आरके सुधांशु ने मुख्य अभियंता अयाज अहमद को सभी पुलों का सुरक्षा आडिट करने को कहा है। कहा गया है कि पुलों के कारण किसी भी प्रकार की दुर्घटना होने पर अधिशासी अभियंता ही जिम्मेदार होंगे।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments