50 % सवारी की अनिवार्यता हुई खत्म, वाहन की क्षमता अनुसार अब कैब वेन,टेक्सी में हो सकेगी यात्रा, SOP जारी

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

उत्तराखंड सरकार ने दूसरे राज्यों में उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों के संचालन के लिए नई एसओपी यानी मानक विचलन कार्यविधि जारी कर दी है। मुख्य सचिव ओमप्रकाश की ओर से जारी SOP,के अनुसार उत्तराखंड परिवहन निगम एवं अन्य राज्यों के बीच अंतर्राज्यीय मार्गों पर पहले चरण में अधिकतम 100-100 फेरे प्रति दिन वाहन चल सकेंगे। यात्रियों से राज्य परिवहन प्राधिकरण द्वारा तय दरों पर किराया लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: फिर एक बार ब्रिटिशकालीन घड़ियां करेंगी टिक टिक...CRST में 1889 में स्थापित घड़ी होगी दुरुस्त।

SOP के अनुसार, यात्रा के दौरान पान, तंबाकू, गुटका और शराब आदि का सेवन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। वाहनों में थूकना दंडनीय अपराध होगा। इसके अलावा यात्रा के दौरान वाहनों को निर्धारित स्टोपेज पर ही रोका जाएगा। यात्रा पूरी करने के बाद वाहनों को पूरी तरह से सैनिटाइज कराया जाएगा। चालक-परिचालक समेत सभी यात्रियों के लिए फेस मास्क पहनना जरूरी होगा।……

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी में मोटा ब्याज लेने वाले सूदखोरों पर कसेगा इनकम टैक्स का शिकंजा... पुलिस ने बनाई लिस्ट।

जारी निर्देशो को अनुसार बसों में खड़े होकर सफर नहीं कर सकेंगे यात्री,
यात्रियों से राज्य परिवहन प्राधिकरण द्वारा निर्धारित दर के अनुसार ही लेना होगा किराया,
राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा निर्धारित मानकों का करना होगा पालन,
यात्रा से पहले और यात्रा के बाद वाहनों को करना होगा सेनेटाइज, चालक, परिचालक और यात्रियों को डाउनलोड करनी होगी आरोग्य सेतु एप,
बसों में यात्रा से पहले यात्रियों की होगी थर्मल स्क्रीनिंग, दूसरे राज्यों के नियमों से समन्वय स्थापित कर करना होगा संचालन,
टैक्सी,मैक्सी,थ्री व्हीलर और ई रिक्शा में निर्धारित सीट क्षमता के अनुसार ही बैठानी होगी सवारी,

यह भी पढ़ें -   मिलिए बागेश्वर के इस "अथातो घुमक्कड़" से! जिसने साईकिल से तय कर डाला 14 देशों का सफर…अभी भी यात्रा जारी…
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments