बेजुबान को बचाने गयी महिला की बिजली के करंट की चपेट में आने से हुई मौत

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

बागेश्वर की कपकोट तहसील के बाछम गांव में बेजुबान को बचाने गयी महिला की करंट के चपेट में आकर दर्दनाक मौत हो गई।वही बेजुबान को भी अपनी जान से हाथ धोना पड़ा ,घटना के बाद पुलिस, प्रशासन व उर्जा निगम की टीम मौके को रवाना हो गई है।


मिली जानकारी के अनुसार बुधवार सुबह कपकोट ब्लाक के बाछम गांव में बिजली का तार टूटने से रास्ते पर चल रहा घोड़ा उसकी चपेट में आ गया। घोड़े को करंट की चपेट में देख लगभग 35 वर्षीय गीता देवी पत्नी तारा सिंह निवासी मझुवा गांव ने उसे बचाने की कोशिश की लेकिन जल्दबाजी में हुई लापरवाही के चलते महिला भी करंट की चपेट में आ गईं। घटना के गांव वाले भी मौके पर पहुँच गए लेकिन लाइन से बिजली की आपूर्ति रोकने तक दोनों ने दम तोड़ दिया , । घटना के बाद से पूरे गांव में शोक की लहर है। मृतका के तीन छोटे-छोटे बच्चे हैं।

यह भी पढ़ें -   बढ़ते संक्रमण के बीच कुमाऊँ विश्विद्यालय की प्रयोगात्मक और लिखित परीक्षाएं हुई रद्द ।


सरपंच लीलावती देवी ने कहा कि बिजली का तार टूटने से हादसा हुआ। घटना के लिए पूरी तरह से ऊर्जा निगम जिम्मेदार है। मामले की जांच की जानी चाहिए। जागरूक नागरिक सच्जन लाल टम्टा ने घटना की सूचना उपजिलाधिकारी कपकोट प्रमोद कुमार को दी। एसडीएम ने रेगुलर पुलिस, राजस्व पुलिस, ऊर्जा निगम के कर्मचारियों को मौके पर भेज दिया है।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल घूमने को किराए पर ली बाइक और पहुँच गए दिल्ली ।
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments