मारपीट मामले की कमजोर विवेचना पर कुमाऊं आईजी ने दरोगा को किया सस्पेंड…

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नैनीताल। शहर के तल्लीताल क्षेत्र में 25 दिसंबर की रात मारपीट मामले में दर्ज केस की कमजोर विवेचना करना दरोगा को महंगा पड़ गया। कुमाऊं आईजी नीलेश आनंद भरणे तक शिकायत पहुंचने के बाद उन्होंने तत्काल प्रभाव से दरोंगा को निलंबित कर दिया है। बता दे कि बीते 25 दिसंबर की रात को आलूखेत निवासी संदीप सोनकर घर लौट रहा था।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल: नारायण नगर में कूड़ा रिसाइक्लिंग प्लांट के निर्माण पर स्थानीय लोगों से प्रशासन की वार्ता विफल।

तल्लीताल रोडवेज स्टेशन के समीप उसका स्थानीय कारोबारी से झगड़ा हो गया। युवक के पिता की तहरीर के बाद तल्लीताल पुलिस ने आईपीसी की धारा 323, 504 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। ईधर युवक को उपचार के बाद हल्द्वानी रेफर कर दिया गया था। स्वजनों ने तल्लीताल पुलिस पर मामले को कमजोर बनाने वाली धाराएं लगाने के आरोप लगाते हुए कुमाऊं आईजी नीलेश आनंद भरणे से शिकायत की थी। जिसके बाद आईजी ने मामले की विवेचना कर रहे दरोंगा पर कड़ा एक्शन लिया है।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी:भ्रष्ट कर्मचारियों की शिकायत करने वालों को विजिलेंस ने बांटे एंड्रॉयड फोन...

आईजी ने बताया कि विवेचक ने पीड़त को आई चोटों के चिकित्सा प्रमाण पत्रों व सीसीटीवी फुटेज को आधार बनाकर धाराओं में बढ़ोतरी नहीं की। पीड़ित को गंभीर चोटे है, जिससे वह अस्पताल में भर्ती है। कमजोर विवेचना पर तल्लीताल दरोगा श्याम सिंह बोरा को निलंबित किया गया है। साथ ही मामले की सही प्रकार से जांच के आदेश दिए हैं।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments